National

सावित्री जिंदल से लेकर गौतम अडानी तक, राजनीति-कार्पोरेट गठबंधन के किरदार

Mon, 08/01/2022 - 23:07

बीते दिनों जिंदल ग्रुप की प्रमुख, सावित्री जिंदल एशिया की सबसे धनी महिला बन गईं. सभी अखबारों, वेबसाइटों पर इस खबर को प्रमुखता से दिखाया गया. एक भारतीय महिला की इस उपलब्धि को बड़े ही सकारात्मक तरीके से पेश किया गया. ऐसा करना भी चाहिए. हालांकि, कुछ दिनों पहले जब उद्योगपति गौतम अडानी दुनिया के चौथे सबसे अमीर शख्स बने तो तमाम लोगों ने तंज के तौर पर इसे पेश किया. राहुल गांधी समेत पूरी कांग्रेस पार्टी और तमाम पत्रकार लगातार अंबानी-अडानी के ज़रिए मोदी सरकार को घेरने की कोशिश करती रहती है. गौतम अडानी की संपत्ति, मोदी सरकार आने के बाद तेजी से बढ़ी है और उनका व्यापार दुनिया के कई देशों में फैला है.

0 comments

धार्मिक कट्टरता: बड़ी हिंसा का कारण बन सकती हैं लगातार होती हत्याएं

Fri, 07/29/2022 - 00:58

राजस्थान में कन्हैयालाल, महाराष्ट्र में उमेश कोल्हे, बिहार में धर्म साहू, मध्य प्रदेश में निशांक, और कर्नाटक में प्रवीन नेट्टारू. ये उन लोगों के नाम हैं जो बीते 1 से डेढ़ महीने के बीच धार्मिक कट्टरता के शिकार हुए हैं. इनमें से निशांक की मौत की जांच अभी जारी है लेकिन अभी तक मिले सभी सबूत, धार्मिक कट्टरता की वजह से ही हत्या की ओर इशारा कर रहे हैं. ये सभी हत्याएं उन लोगों की हैं जिन्होंने नुपुर शर्मा के बयान का समर्थन किया था. कुल मिलाकर बीते डेढ़ महीने के अंदर देश की 'गंगा-जमुनी तहजीब' की एक साफ़ तस्वीर सामने आ चुकी है. नुपुर शर्मा को खुद भी जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं.

0 comments

विडंबना: कट्टरता ने बदला भगवान राम और हनुमान का स्वरुप

Mon, 01/17/2022 - 18:37

हम सब चलते फिरते भगवान राम और हनुमान की तस्वीरें देखते होंगे. ज़्यादातर गाड़ियों-मोटरसाइकिलों पर ये स्टीकर लगे होते हैं. इन स्टीकर में हनुमान जी या भगवान राम को भगवा रंग में बिल्कुल गुस्से में दिखाया जाता है. दोनों भगवान ऐसे गुस्से में नजर आते हैं जैसे कि बस अभी विनाश करने लगेंगे. वैसे तो हमारे भगवानों के अलग-अलग रूप हैं और उन्हें उन रूपों में पूजा जाता है लेकिन यहां जिस परिपेक्ष्य में इन स्टीकरों का इस्तेमाल किया जा रहा है वह थोड़ा अलग है.

0 comments

उत्तर प्रदेश: चार बड़े कारण जो बीजेपी को सत्ता में आने से रोक सकते हैं

Sat, 01/08/2022 - 23:42

कल के आर्टिकल में हमने बात की थी कि वो कौन से फ़ैक्टर हैं जो बीजेपी की जीत में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं. आज हम उन चुनौतियों की बात करेंगे जो बीजेपी को सत्ता में आने से रोक सकती हैं और विपक्ष को सत्ता के करीब ले जा सकती हैं. बीजेपी सरकार (केंद्र और राज्य) ने जिस तरह से कुछ ऐसे काम किए जिन्होंने उन्हें जनता के बीच लोकप्रिय बनाया है तो कुछ ऐसे भी काम किए हैं जिनसे उनकी लोकप्रियता भी असर भी पड़ा है.

0 comments

उत्तर प्रदेश: वो तीन बातें जो बीजेपी की जीत में महत्त्पूर्ण रोल अदा कर सकती है

Sun, 01/02/2022 - 23:18

यूपी चुनाव के बारे में कल हमने लिखा था कि बीजेपी एक बार फिर सत्ता में वापसी कर सकती है. आखिर क्या कारण हैं कि बीजेपी 5 साल सत्ता में रहने के बाद, इसके अलावा केंद्र में भी सत्ता में रहने के बाद एक बार फिर से सबसे मजबूत नजर आ रही है. आज हम उन कारणों के बारे में लिखेंगे जो इस चुनाव में बीजेपी की जीत के बड़े फैक्टर बन सकते हैं.

0 comments

उत्तर प्रदेश: लगातार दूसरी बार बहुमत ला कर बीजेपी क्या नया कीर्तिमान बना पायेगी

Thu, 12/30/2021 - 00:03

देश के कई राज्यों में विधानसभा चुनाव का ऐलान जल्द होने वाला है. इन राज्यों में चुनाव प्रचार की शुरूआत हो चुकी है. यूपी देश की सियासत का बड़ा केंद्र है, इसलिए सभी राज्यों में यूपी की अहमियत सबसे ज़्यादा है. 403 विधानसभा सीटों वाले इस प्रदेश में बीते 3 कार्यकाल से लगातार बहुमत की सरकार बन रही है. एक जमाने में पूर्ण बहुमत यूपी के लिए एक कल्पना सा बन चुका था जिसे 2007 में बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने असलियत बनाया और पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई. उनके बाद 2012 में अखिलेश यादव के नेतृत्व में सपा ने पूर्ण बहुमत पाया और सरकार बनाई.

0 comments

निर्भया केस: घटना के 9 साल और अपराधियों की फांसी के बाद कितना कुछ बदला है

Thu, 12/16/2021 - 21:17

कल 16 दिसंबर था. 2012 में कल ही रात एक ऐसी वारदात हुई थी जिसके बाद पूरे देश में उबाल आ गया था. 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में निर्भया से गैंगरेप की वारदात हुई थी. देश की राजधानी की सड़क पर हुए इस दुर्दांत कांड ने सभी को हिलाकर रख दिया था. हालांकि, ऐसा नहीं था कि घटना के तुरंत बाद ही लोगों में गुस्सा आ गया हो. मुझे याद है कि वारदात के अगले दिन अखबार के पहले पन्ने पर यह खबर ज़रूर थी लेकिन हेडलाइन नहीं थी. चूंकि मामला देश की राजधानी का था इसलिए पहले पेज पर इस खबर को जगह ज़रूर मिल गई लेकिन शायद किसी को भी इस बात का अंदाजा नहीं था कि यह केस कितनी जल्दी मीडिया में छा जाएगा.

0 comments

अमरिंदर की 'अपमानजनक' विदाई, कन्हैय्या की एंट्री. देश का माहौल कब समझेगी कांग्रेस?

Fri, 09/24/2021 - 00:36

2017 की बात है. जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैय्या कुमार यूपी के हरदोई आने वाले थे. वामपंथी संगठन भारत बचाओ भारत बनाओ यात्रा निकाल रहे थे और उसी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कन्हैय्या कुमार हरदोई आने वाले थे. कन्हैय्या के आने की सूचना लोगों की मिली और उनका विरोध शुरू हो गया. हिंदू सेना नाम के संगठन ने ऐसा विरोध किया कि कन्हैय्या कुमार ट्रेन से उतर तक नहीं पाए और उन्हें वापस जाना पड़ा. नेताओं का विरोध आम बात है. किसी भी दूसरे दल के समर्थक विरोध करते ही हैं लेकिन कन्हैय्या के साथ में समर्थन बिल्कुल नहीं था. नतीजा यह हुआ कि उन्हें भागना पड़ा.

0 comments

क्यों जातिगत जनगणना, आरक्षण की समीक्षा के बगैर अधूरी होगी?

Thu, 09/16/2021 - 00:07

बीते दिनों जातिगत जनगणना की मांग ने एक बार फिर से जोर पकड़ लिया. बिहार 10 राजनीतिक दल इस मुद्दे पर पीएम मोदी से मिले. खास बात यह थी कि इन 10 दलों में आरजेडी और नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू दोनों एक साथ थीं. यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी इस मुद्दे को लोकसभा में उठाया था. उनके पिता मुलायम सिंह यादव और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव लंबे समय से ही जातिगत जनगणना की मांग करते रहे हैं. बीते समय में क्षेत्रीय पार्टियां राजनीति में हाशिए पर चली गई हैं. बीजेपी का हिंदुत्व कार्ड हिट है जिसकी वजह पिछड़ी जातियों के बूते पर राजनीतिक करने वाले दलों की स्थिति कमजोर हो चुकी है.

0 comments

तालिबान: ऑडियो मैसेज से संदेह गहराया, मुल्ला गनी बरादर की पाकिस्तानी साजिश के तहत हत्या की आशंका

Mon, 09/13/2021 - 22:41

अफ़गानिस्तान पर तालिबान का कब्जा हो चुका है. तालिबान ने सरकार का ऐलान भी कर दिया है. खबरों के मुताबिक तालिबानी बड़े जोर-शोर से अपनी कथित सरकार के शपथ ग्रहण की तैयारी कर रहे थे. इस शपथ ग्रहण में कई देशों को न्योता भेजा जाने वाला था. फिर, अचानक 11 सितंबर को होने वाला यह शपथ ग्रहण टल गया. कुछ मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इसे टालने की वजह 11 सितंबर को अमेरिका के वर्ल्ड ट्रे़ड सेंटर पर हमले की बरसी होना था लेकिन फिर एक और खबर ने सभी को चौंका दिया. यह खबर थी कि तालिबान सरकार में डिप्टी प्राइम मिनिस्टर नियुक्त किए गए मुल्ला अब्दुल गनी बरादर की मौत हो गई.

0 comments

हक्कानी नेटवर्क:अमेरिका से लेकर ओसामा तक का मददगार

Thu, 09/09/2021 - 22:54

अफगानिस्तान में तालिबान सत्ता पर कब्जा जमा चुका है. और अपनी अंतरिम सरकार की घोषणा भी कर दी है। पर इसी के साथ तालिबान के अंदर अलग अलग गुटों में मतभेद भी सामने आने लगे है। खबरों के मुताबिक मुल्ला गनी बरादर, मुल्ला याकूब और सिराजुद्दीन हक्कानी के बीच मतभेद हैं. मुल्ला याकूब जहां पूर्व तालिबान प्रमुख मुल्ला उमर का बेटा है वहीं सिराजुद्दीन हक्कानी, हक्कानी नेटवर्क का प्रमुख है और हक्कानी नेटवर्क के पूर्व प्रमुख जलालुद्दीन हक्कानी का बेटा है. हक्कानी नेटवर्क इस समय तालिबान में प्रभावशाली भूमिका में है और बताया जा रहा है कि काबुल की कथित सुरक्षा हक्कानी नेटवर्क के हाथ में ही है.

0 comments

अफ़गानिस्तान में तालिबान की सत्ता में वापसी में और भारत की राजनीति

Fri, 09/03/2021 - 01:43

भारत एक ऐसा देश है जहां हर कोई राजनीतिज्ञ है. चाहें वह किसी राजनीतिक दल में शामिल हो या न हो. मौजूदा दौर में मीडिया वर्ग लगातार इस जुगत में है किस तरह से राजनीतिक पार्टियों की जगह ली जाए. इनकी राजनीति एक दम सीधी है. एक पक्ष मोदी जी के साथ तो दूसरा खिलाफ है. दोनों अपने-अपने प्रयासों से देश का नुकसान करने में लगे रहते हैं. ताज़ा मामला खिलाफ वालों का है. दरअसल अफगानिस्तान में तालिबान ने सत्ता पर कब्जा कर लिया है. देश के अंदर सभी इस बात पर रिएक्ट कर रहे थे. अधिकतर लोग तालिबान के खिलाफ बोल रहे थे वहीं कुछ लोग तालिबान का समर्थन भी कर रहे थे.

0 comments

प्रधानमंत्री मोदी का भावुक होना क्या उनकी लोकप्रियता बनाये रखेगा

Sun, 05/23/2021 - 21:33

बीते दिनों हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भावुक हो गए. कोरोना काल में मारे गए लोगों के बारे में बात करते हुए वह भावुक हुए और कहा कि न जाने हमारे कितने लोग हमें छोड़कर चले गए. वैसे तो भावुक होने के मामले याद किए जाएं तो नरेंद्र मोदी जी ही बार-बार याद आते हैं लेकिन फिर भी उनके इस 'मास्टस्ट्रोक' को देखकर ब्रिटिश पीएम विंस्टन चर्चिल की याद आ गई. प्रधानमंत्री ने बीते साल आपदा में अवसर बनाने की बात कही थी. वह अक्सर भावुक होकर आपदाओं में अपने लिए अवसर बना लेते रहे हैं. विंस्टन चर्चिल ने भी 1952 में ऐसा ही किया था.

0 comments

महामारी के दौर में भी इंसान का का सबसे बड़ा दुश्मन इंसान ही साबित हुआ है

Fri, 05/21/2021 - 00:25

बीते बुधवार को अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी का जन्मदिन था. उन्होंने फेसबुक पर अपनी आवाज़ में एक वीडियो शेयर किया. वीडियो में हमारी धरती के बारे में तमाम बातें कहीं गईं हैं. नवाजुद्दीन इसमें खुद को चांद पर बताते हुए, धरती को एक खूबसूरत तश्तरी की तरह बताते हैं. वीडियो के मुख्य संदेश को बताना चाहें, तो वह यह है कि हम कितने खुशकिस्मत लोग हैं जिन्होंने इस धरती पर जन्म लिया, लेकिन हम इसे ही छलनी करने में जुटे हैं. हमें यह समझना होगा कि यह धरती हमारा घर है और हमसे, हमारी (मनुष्य से मनुष्य की) हिफ़ाजत करने और कोई नहीं आएगा.

0 comments

मोदी और शाह ने बंगाल चुनाव के साथ साथ काफी कुछ गंवा दिया

Mon, 05/03/2021 - 21:45

बीजेपी बंगाल का चुनाव हार चुकी है. जितनी हवा थी उस हिसाब से बीजेपी की हार को बड़ा ही माना जाएगा. हालांकि, सीटों की गिनती के हिसाब से बीजेपी को बंगाल में बड़ा फायदा हुआ है. पिछले चुनाव में 3 सीटें जीतने वाली पार्टी आज 80 के ऊपर सीटें ला रही है. इन सीटों के लिए, बीजेपी ने अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया. पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह से लेकर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ तक बंगाल के चुनाव में लगे रहे. इस बीच देश के हालात खराब होते रहे. यूपी के हालात खराब होते रहे और सीएम साहब खुद कोरोना पॉजिटिव होकर आइसोलेट हो गए.

0 comments

Pages