National

अमरिंदर की 'अपमानजनक' विदाई, कन्हैय्या की एंट्री. देश का माहौल कब समझेगी कांग्रेस?

Fri, 09/24/2021 - 00:36

2017 की बात है. जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैय्या कुमार यूपी के हरदोई आने वाले थे. वामपंथी संगठन भारत बचाओ भारत बनाओ यात्रा निकाल रहे थे और उसी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कन्हैय्या कुमार हरदोई आने वाले थे. कन्हैय्या के आने की सूचना लोगों की मिली और उनका विरोध शुरू हो गया. हिंदू सेना नाम के संगठन ने ऐसा विरोध किया कि कन्हैय्या कुमार ट्रेन से उतर तक नहीं पाए और उन्हें वापस जाना पड़ा. नेताओं का विरोध आम बात है. किसी भी दूसरे दल के समर्थक विरोध करते ही हैं लेकिन कन्हैय्या के साथ में समर्थन बिल्कुल नहीं था. नतीजा यह हुआ कि उन्हें भागना पड़ा.

0 comments

क्यों जातिगत जनगणना, आरक्षण की समीक्षा के बगैर अधूरी होगी?

Thu, 09/16/2021 - 00:07

बीते दिनों जातिगत जनगणना की मांग ने एक बार फिर से जोर पकड़ लिया. बिहार 10 राजनीतिक दल इस मुद्दे पर पीएम मोदी से मिले. खास बात यह थी कि इन 10 दलों में आरजेडी और नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू दोनों एक साथ थीं. यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी इस मुद्दे को लोकसभा में उठाया था. उनके पिता मुलायम सिंह यादव और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव लंबे समय से ही जातिगत जनगणना की मांग करते रहे हैं. बीते समय में क्षेत्रीय पार्टियां राजनीति में हाशिए पर चली गई हैं. बीजेपी का हिंदुत्व कार्ड हिट है जिसकी वजह पिछड़ी जातियों के बूते पर राजनीतिक करने वाले दलों की स्थिति कमजोर हो चुकी है.

0 comments

तालिबान: ऑडियो मैसेज से संदेह गहराया, मुल्ला गनी बरादर की पाकिस्तानी साजिश के तहत हत्या की आशंका

Mon, 09/13/2021 - 22:41

अफ़गानिस्तान पर तालिबान का कब्जा हो चुका है. तालिबान ने सरकार का ऐलान भी कर दिया है. खबरों के मुताबिक तालिबानी बड़े जोर-शोर से अपनी कथित सरकार के शपथ ग्रहण की तैयारी कर रहे थे. इस शपथ ग्रहण में कई देशों को न्योता भेजा जाने वाला था. फिर, अचानक 11 सितंबर को होने वाला यह शपथ ग्रहण टल गया. कुछ मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इसे टालने की वजह 11 सितंबर को अमेरिका के वर्ल्ड ट्रे़ड सेंटर पर हमले की बरसी होना था लेकिन फिर एक और खबर ने सभी को चौंका दिया. यह खबर थी कि तालिबान सरकार में डिप्टी प्राइम मिनिस्टर नियुक्त किए गए मुल्ला अब्दुल गनी बरादर की मौत हो गई.

0 comments

हक्कानी नेटवर्क:अमेरिका से लेकर ओसामा तक का मददगार

Thu, 09/09/2021 - 22:54

अफगानिस्तान में तालिबान सत्ता पर कब्जा जमा चुका है. और अपनी अंतरिम सरकार की घोषणा भी कर दी है। पर इसी के साथ तालिबान के अंदर अलग अलग गुटों में मतभेद भी सामने आने लगे है। खबरों के मुताबिक मुल्ला गनी बरादर, मुल्ला याकूब और सिराजुद्दीन हक्कानी के बीच मतभेद हैं. मुल्ला याकूब जहां पूर्व तालिबान प्रमुख मुल्ला उमर का बेटा है वहीं सिराजुद्दीन हक्कानी, हक्कानी नेटवर्क का प्रमुख है और हक्कानी नेटवर्क के पूर्व प्रमुख जलालुद्दीन हक्कानी का बेटा है. हक्कानी नेटवर्क इस समय तालिबान में प्रभावशाली भूमिका में है और बताया जा रहा है कि काबुल की कथित सुरक्षा हक्कानी नेटवर्क के हाथ में ही है.

0 comments

अफ़गानिस्तान में तालिबान की सत्ता में वापसी में और भारत की राजनीति

Fri, 09/03/2021 - 01:43

भारत एक ऐसा देश है जहां हर कोई राजनीतिज्ञ है. चाहें वह किसी राजनीतिक दल में शामिल हो या न हो. मौजूदा दौर में मीडिया वर्ग लगातार इस जुगत में है किस तरह से राजनीतिक पार्टियों की जगह ली जाए. इनकी राजनीति एक दम सीधी है. एक पक्ष मोदी जी के साथ तो दूसरा खिलाफ है. दोनों अपने-अपने प्रयासों से देश का नुकसान करने में लगे रहते हैं. ताज़ा मामला खिलाफ वालों का है. दरअसल अफगानिस्तान में तालिबान ने सत्ता पर कब्जा कर लिया है. देश के अंदर सभी इस बात पर रिएक्ट कर रहे थे. अधिकतर लोग तालिबान के खिलाफ बोल रहे थे वहीं कुछ लोग तालिबान का समर्थन भी कर रहे थे.

0 comments

प्रधानमंत्री मोदी का भावुक होना क्या उनकी लोकप्रियता बनाये रखेगा

Sun, 05/23/2021 - 21:33

बीते दिनों हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भावुक हो गए. कोरोना काल में मारे गए लोगों के बारे में बात करते हुए वह भावुक हुए और कहा कि न जाने हमारे कितने लोग हमें छोड़कर चले गए. वैसे तो भावुक होने के मामले याद किए जाएं तो नरेंद्र मोदी जी ही बार-बार याद आते हैं लेकिन फिर भी उनके इस 'मास्टस्ट्रोक' को देखकर ब्रिटिश पीएम विंस्टन चर्चिल की याद आ गई. प्रधानमंत्री ने बीते साल आपदा में अवसर बनाने की बात कही थी. वह अक्सर भावुक होकर आपदाओं में अपने लिए अवसर बना लेते रहे हैं. विंस्टन चर्चिल ने भी 1952 में ऐसा ही किया था.

0 comments

महामारी के दौर में भी इंसान का का सबसे बड़ा दुश्मन इंसान ही साबित हुआ है

Fri, 05/21/2021 - 00:25

बीते बुधवार को अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी का जन्मदिन था. उन्होंने फेसबुक पर अपनी आवाज़ में एक वीडियो शेयर किया. वीडियो में हमारी धरती के बारे में तमाम बातें कहीं गईं हैं. नवाजुद्दीन इसमें खुद को चांद पर बताते हुए, धरती को एक खूबसूरत तश्तरी की तरह बताते हैं. वीडियो के मुख्य संदेश को बताना चाहें, तो वह यह है कि हम कितने खुशकिस्मत लोग हैं जिन्होंने इस धरती पर जन्म लिया, लेकिन हम इसे ही छलनी करने में जुटे हैं. हमें यह समझना होगा कि यह धरती हमारा घर है और हमसे, हमारी (मनुष्य से मनुष्य की) हिफ़ाजत करने और कोई नहीं आएगा.

0 comments

मोदी और शाह ने बंगाल चुनाव के साथ साथ काफी कुछ गंवा दिया

Mon, 05/03/2021 - 21:45

बीजेपी बंगाल का चुनाव हार चुकी है. जितनी हवा थी उस हिसाब से बीजेपी की हार को बड़ा ही माना जाएगा. हालांकि, सीटों की गिनती के हिसाब से बीजेपी को बंगाल में बड़ा फायदा हुआ है. पिछले चुनाव में 3 सीटें जीतने वाली पार्टी आज 80 के ऊपर सीटें ला रही है. इन सीटों के लिए, बीजेपी ने अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया. पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह से लेकर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ तक बंगाल के चुनाव में लगे रहे. इस बीच देश के हालात खराब होते रहे. यूपी के हालात खराब होते रहे और सीएम साहब खुद कोरोना पॉजिटिव होकर आइसोलेट हो गए.

0 comments

कोरोना से खुद को बचा के रखें अपनी जान की जिम्मेदारी आप की है सरकार की नहीं!

Sun, 04/25/2021 - 00:44

देश में कोरोना के चलते हालात बदतर हैं. पूरा देश कोरोना से पीड़ित है. अस्पतालों में बेड नहीं हैं, ऑक्सिजन नहीं हैं. लोग सड़कों पर मर रहे हैं. किसी के मां बाप के सामने बेटा-बेटी खत्म हो जा रहे हैं, तो किसी के छोटे बच्चों के सामने मां बाप दम तोड़ रहे हैं. हालत यह है कि लोग अपनों का अंतिम संस्कार तक नहीं कर पा रहे या करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे. ऐसे समय में देश में तमाम लो हैं जो अपने अपने स्तर पर मदद करने की कोशिश कर रहे हैं. कुछ लोग हैं जो जीवन रक्षक दवाईयों और ऑक्सिजन की कालाबाजारी कर रहे हैं, तो कुछ लोग ऐसे भी हैं जो हिंदू मुसलमान की राजनीति कर रहे हैं.

0 comments

आगरा: सीवर के लिए खोदे गए गड्ढे में गिरे बच्चे को बचाने गए 4 लोगों और बच्चे की जहरीली गैस से मौत

Wed, 03/17/2021 - 02:01

उत्तर प्रदेश में आगरा के फतेहाबाद इलाके में निर्माणाधीन सेप्टिक टैंक में 10 वर्षीय बालक के गिरने के बाद उसे बचाने उतरे 4 अन्य लोगों सहित कुल 5 लोग की मौत हो गयी।

जानकारी के अनुसार घर में पुराने सेप्टिक टैंक के भर जाने के बाद उससे 3 फ़ीट की दूरी पर नये टैंक का निर्माण करने के लिए गड्ढा खोदा गया था। पुराने भरे हुए टैंक से धीमे धीमे पानी रिस कर नये खोदे गए गड्ढे में भर गया। गड्ढा में लगभग 4 फ़ीट पानी जमा हो गया था और उसे ढका नहीं गया था।

0 comments

जम्मू कश्मीर के शोपियां में जैश का टॉप कमांडर मुठभेड़ में मारा गया, तीन दिनों से घेराबंदी जारी थी

Tue, 03/16/2021 - 02:57

दक्षिणी कश्मीर के शोपियन में तीन दिन से जारी मुठभेड़ कल समाप्त हो गयी। मुठभेड़ में भारतीय सेना 2 आतंकी मार गिराए। मारे गए आतंकियों में से एक जैश ए मोहम्मद का कमांडर विलायत हुसैन लोन उर्फ़ सज्जाद अफगानी है।

सज्जाद अफगानी आतंकी गतिविधियों के साथ कश्मीर में कई नाबालिग लड़कियों के बलात्कार के अपराध में भी शामिल था। ऐसे तमाम अपराधों में जम्मू कश्मीर पुलिस को उसकी तलाश थी।

0 comments

खबरों को अपने एजेंडा के हिसाब से तोड़ मोड़ कर चलाने वाले मीडिया संस्थानों से सुप्रीम कोर्ट तक सुरक्षित नहीं

Fri, 03/12/2021 - 01:55

बीते कुछ सालों में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय काफी चर्चा में रहे हैं. चर्चा में कहना शायद काफी नहीं होगा बल्कि नकारात्मक चर्चा में रहे हैं, शायद यह पूर्ण हों. हालांकि, यह निर्णय पक्षानुसार पसंद किए जाते रहे हैं, ऐसे में सुप्रीम कोर्ट के फैसलों को ऐतिहासिक या बकवास अपने अपने पक्ष के मुताबिक बताया जाता है. जब तक सुप्रीम कोर्ट के फैसले केंद्र सरकार के खिलाफ आते रहे, एक विचारधारा के लोग उन्हें ऐतिहासिक बताते रहे. उत्तराखंड में सरकार गठन के मुद्दे पर फैसला हो या NJAC पर केंद्र सरकार को झटका, यहां तक कि रंजन गोगोई समेत 4 जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस तक को ऐतिहासिक बताया गया.

0 comments

नारीवाद के इस दौर में महिला सशक्तिकरण जमीन पर सफलता से मीलों दूर

Mon, 03/08/2021 - 19:47

कल 8 मार्च यानि अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का दिन था. इस मौके पर महिलाओं के बारे में तमाम बातें लिखीं गईं. पूरे दिन को अलग तरीके से सेलिब्रेट किया गया, लेकिन ऐसा लगा कि इस दिन को सिर्फ़ उपलब्धियों के दायरे में देखा गया. महिलाएं कितनी मजबूत हैं और वो कितना आगे बढ़ चुकी हैं. इस पर बातें हुईं और लिखी गईं लेकिन महिलाओं के सामने क्या क्या चुनौतियां हैं, इस पर बहुत ज्यादा फोकस नहीं दिखा. आज के समय में भी महिलाओं के सामने तमाम चुनौतियां हैं. उन्हें पुरुषों के समान तमाम अधिकार मिले हैं, तो आज भी बहुत सी महिलाएं को बेसिक अधिकार भी नहीं मिले हैं.

0 comments

बंगाल चुनाव: भगदड़ का ऐसा दौर है ग़ालिब की आज ये भागा कल वो भागा

Thu, 03/04/2021 - 02:59

उसी को जीने का हक़ है जो इस ज़माने में
इधर का लगता रहे और उधर का हो जाए

मशहूर शायर वसीम बरेलवी ने का शेर इन दिनों भारतीय राजनीति पर एकदम सटीक बैठता है.भारत को विविधताओं का देश कहा जाता है.इसकी वजह है की भारत में कई मौसम और ऋतुएं होती हैं,लेकिन इन सबके बीच हम सबसे अहम मौसम को भूल जाते हैं. ये मौसम है चुनाव का मौसम. इस मौसम को भारतीय राजनीति में ब्रेकअप और तलाक का दौर तेज हो जाता है. बीते 5 सालों से जारी तमाम विवाहेत्तर संबंध इस दौरान अपने रिश्ते को नया नाम देने का ऐलान कर देते हैं.

0 comments

आम जनता और नेता के बीच मौजूद टेबल जितनी खाई 70 साल की आज़ादी भी दूर नहीं कर पायी

Sat, 02/27/2021 - 01:27

एक शानदार टेबल है, जिस पर बिसलरी की पानी की बोतल रखी है, काजु कतली रखी है, और भी खाने पीने का कुछ आइटम सजा रखा है जो समझ नहीं आ रहा है. एक बढ़िया सोफेनुमा कुर्सी पर बैठे यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव नजर आ रहे हैं. दरअसल ये टेबल के एक साइड का दृश्य था. टेबल की दूसरी साइड कुछ साधारण से पहनावे वाली औरतें दिख रहीं हैं जो सभी जमान पर बैठी हैं, जो बेहद दुखी नजर आ रही हैं और उम्मीदभरी नजरों से अखिलेश यादव को देख रही हैं. इस दृश्य को आम समझना या सिर्फ अखिलेश यादव से जोड़कर देखना गलत होगा. दरअसल देश के अधिकतर राजनेताओं की सच्चाई यही है.

0 comments

Pages