जल्द ही देश की राजधानी में सफाई के लिए सीवर में उतरने वाले मजदूरों को राहत मिल सकती है.दरअसल दिल्ली सरकार अब रोबोट के जरिए सीवर सफाई के प्रोजेक्ट पर ध्यान दे रही है.इसके लिए दिल्ली के सामाजिक कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने IIT दिल्ली,दिल्ली तकनीकी विश्वविद्यालय,दिल्ली म्यूनिसिपल काउंसिल के साथ अन्य संगठनों के साथ चर्चा की है.

दिल्ली के मंत्री को यह विचार दरअसल केरल में एक स्टार्टअप के बनाए बैंडीकूट नाम के रोबोट से मिला.इस रोबोट के जरिए केरल,तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के सीवरों में सफाई की जाती है.खास बात ये है की सीवर सफाई करने वाले 80 फीसदी मजदूरों को इस रोबोट को चलाने के लिए ट्रेनिंग दी गई है ताकि उनकी जीविका पर असर न पड़े.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक बैंडीकूट को चलाने के लिए एक शख्स की जरूरत होगी.हालांकि इस रोबोट में कैमरे भी लगे हैं.इसे 360 डिग्री पर घुमाया भी जा सकता है.इसे चलाने वाले शख्स को बस इसे सीवर के मेनहोल के पास ले जाना पड़ेगा और थोड़ा बहुत घुमाना पड़ेगा.हालांकि दिल्ली सरकार की बैठक में मौजूद IIT विशेषज्ञ के अनुसार ये रोबोट अभी दिल्ली के हालातों के अनुकूल नहीं है इसलिए कंपनी से संपर्क करके इसे दिल्ली के हिसाब से बनवाया जाए ताकि राजधानी में इसका प्रयोग हो सके.

अब से कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हुई थी.जिसमें एक बच्चा अपने पिता की लाश पर पड़े चादर को हटाता है और रो पड़ता है.ये तस्वीर दरअसल दिल्ली में सीवर साफ करने के लिए घुसे एक मजदूर और उसके बेटे की थी.इस मजदूर को सीवर की जहरीली गैस के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी थी.इसके बाद दिल्ली में ही अन्य घटनाएं भी सामने आईं थीं जिनमें कई मजदूरों को सीवर में उतर कर अपनी जान गंवानी पड़ी.