टिक टोक पर मजाकिया वीडियो डालना और उन्हें शेयर करना आजकल युवाओं में काफी तेजी से वायरल हो चुका है। काफी युवाओं ने टिकटोक के माध्यम से अपनी पहचान भी बनायीं है। हरियाणा में बीजेपी ने टिक टोक स्टार सोनाली फोगट को विधानसभा का टिकट तक दिया।

जब भी संचार का कोई भी माध्यम काफी प्रचलित होता है तब अच्छे के साथ बुरे लोग भी उसका फायदा उठाने की सोचते है। टिक टोक का इस्तेमाल आतंकी भी कर रहे है। वैसे तो टिक टोक हल्के फुल्के वीडियो के लिए महशूर है पर इस्लामिक स्टेट के आतंकी इस पर गलियों में लाशों को घुमाते हुए, कभी हथियारों के साथ युवा आतंकी और कई बार इस्लामिक स्टेट की महिला लड़ाके अपने आप को जिहादी कहते हुए वीडियो बना के डाल रहे है।

अभी हाल के दिनों में अरबी भाषा में इस्लामिक स्टेट द्वारा गाये जाने वाले तमाम गानों को भी टिक टोक पर शेयर किया जा रहा है। सोशल मीडिया इंटेलिजेंस कंपनी स्टोरीफुल के अनुसार अमेरिकी सैनिकों के सीरिया से निकलने के बाद अपनी ताकत दर्शाते हुए इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों के वीडियो में काफी बढ़ोत्तरी देखी गयी है।

विशेषज्ञों के अनुसार इस तरह के वीडियो को टिक टोक पर शेयर करने के मकसद हर बार नयी भर्ती करना नहीं होता है। आतंकी युवाओं में अपने प्रति आकर्षण और एक कौतुहल पैदा करना चाहते है जिससे युवा उनकी तरफ आकर्षित हो उनकी आतंकी विचारधारा को पढ़े और उसे आपनाये। ये एक लम्बा तरीका हो सकता है पर युवा मष्तिष्क पर इस तरह के वीडियो से गहरा असर पड़ सकता है।

कई बार ऐसा देखा गया है की युवा सीधे तौर पर इस्लामिक स्टेट से जुड़े नहीं होते है पर उनके इस दुष्प्रचार का शिकार हो वो खुद ही कोई आतंक की घटना करने के लिए प्रेरित हो जाते है। इस्लामिक स्टेट द्वारा इस तरह के वीडियो शेयर किये जाने के बाद टिक टोक की पैरेंट कंपनी बाइटडांस लिमिटेड के सामने यह एक नयी चुनौती जैसा होगा।